मंगलवार, 1 दिसंबर 2009

रात फिर,
समन्दर से हुई बात...
वो कहता रहा,
मीठी हो...
शीतल हो....

आखिर ,
क्यूँ मिलती हो मुझमे?
क्यूँ न ऐसा हो,
आज़ाद बहो,
और तुम,
खुश भी रहो....


क्या समझाऊं उसे?
आज़ाद बहूँ??
ओर खुश भी रहूँ??
तब जबकि,
मेरा मिलना उससे,
मेरी आदत नहीं,
मेरी नियति है....

मेरा मिलना उससे तय है,
सदियो से,
युगों युगों से.....

न बहूँ अगर,
रुक जाऊ जो मैं....
मर जाउंगी....
तलछट में पड़ी,
मिट्टी ही बस रह जाउंगी.....
तो इसलिए,
नदी को समन्दर में समाना ही होगा....
मेरा होना,
मेरे बहने में ही है,
ओर यही मेरे लिए,
सुखकर है, हितकर है
और हाँ,
यही नियति भी है......


*************

29 टिप्‍पणियां:

  1. नदी अगर बहना छोड़ दे तो ...
    एक जगह रुक जाने वाला जल कीचड़ हो जाता है ...
    समंदर तक पहुंचा ही नदी की नियति है ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया कविता..... प्रेरक...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहना जिंदगी है , जीवन मीठा भी है खारा भी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस ध्यान दिलाना चाहता हूँ पूरी विनम्रता से... मैं कोई पारखी या विशेषज्ञ नहीं हूँ...
    तलछट में पड़ी,
    मिट्टी ही बस रह जाउंगी.....

    ... इसे और बेहतर बना सकती हैं...

    नई सुबह होगी,
    जब नया सूरज निकलेगा.

    मुश्किलें हट जायेंगी,
    जब वक़त चाल बदलेगा.

    बनवास तो भगवान् जी को भी मिला था न.......
    ... क्या एडिट की जरुरत नहीं लग रही ?...

    उत्तर देंहटाएं
  5. jeevan chalne ka naam , chalte raho subah -o-sham..........ek prerak rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहना तो होगा ही क्योकि फिर स्थिर हो जाना होगा और फिर जीवन का अर्थ ही बदल जायेगा.

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्यूँ मिलती हो मुझमे?
    आज़ाद बहो,
    ओर खुश भी रहो....
    क्या समझाउं उसे?
    आज़ाद बहूँ??
    ओर खुश भी रहूँ??
    बहुत कुछ कह दिया इन पंक्तियों ने....सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  8. VAAH .. KAMAAL KI ABHIVYAKTI .... SACH MEIN NADI KI TO YE REET HAI SAAGER MEIN HI USKO MILNA HAI ... AATMA AUR PARMAATMA KA BHI TO VAHI NIYAM HAI ... LAJAWAAB ABHIVYAKTI ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. अगर सागर साहब की पारखी नजर कुछ बेहतरी की अपेक्षा करती है..तो उनकी बात पर एक बार सोचने की गुंजाइश बनती है..
    बाकी बाद मे....

    उत्तर देंहटाएं
  10. डिंपल जी ,
    समंदर और नदी का मिलना दोनों की नियती तो है ही , सार्थकता भी है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर कविता है.
    ज्यादा भाव पकड़ में नहीं आ रहे फिर भी लगता है कि जो नियत है उसी के प्रति आग्रह भी और प्रश्न भी.

    उत्तर देंहटाएं
  12. Kitna accha likhti hai aap!.Dimple, You have great potential. I will be looking forward to read your next poem.

    उत्तर देंहटाएं
  13. नदी ने राज़ खोला
    पता चला
    गालों के गढ़ों में था
    वो नाम छुपा ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. कही -कहीं भावानुसार पंक्तियां नहीं
    बन पाई हैं , जैसे ------
    इस प्रसंग में ... '' तलछट में पड़ी,
    मिट्टी ही बस रह जाउंगी..... '' आदि ...
    ऐसा होने पर कविता के प्रवाह में बाधा आ
    रही है ...
    बाकी कविता मुझे बड़ी अच्छी लगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्यूँ मिलती हो मुझमे?
    आज़ाद बहो,
    ओर खुश भी रहो....
    क्या समझाउं उसे?
    आज़ाद बहूँ??
    ओर खुश भी रहूँ??
    मन को छू गयी ये पंक्ति
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. मेरा होना,
    मेरे बहने में ही है,
    ओर यही मेरे लिए,
    सुखकर है, हितकर है
    और हाँ,
    यही नियती भी है......

    नदी के बहाव की तरह बही दिल में यह कविता बहुत सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  17. राज जी ये समंदर मुबारक आपको ......यूँ ही मीठी,शीतल नमकीन बनती रहिये ....आज़ाद रहिये .......!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेरा होना,
    मेरे बहने में ही है,

    नदी की यही नियति ही तो उसे गतिमय बनाती है..जिंदगी भरती है उसकी रगों मे..और यह नदी के जीवट इरादों का ही नतीजा होता है कि कभी-न-कभी अपने समंदर को पा लेती है..और पाती है तो ऐसा..कि फिर कभी और कुछ पाने की जरूरत नही रह जाती है..विछोह का डर नही..यही नदी की किस्मत है..
    ...और समंदर..उसका क्या..जिसके हिस्से मे दुनिया भर का सारा इंतजार लिखा होता है..जो कहीं जा भी नही सकता...किसी दर पे...बस अपनी गहराइयों मे डूबे रह कर अनंतकाल तक प्रतीक्षा ही कर सकता है..या ज्यादा बेसब्र होने पर साहिल की देहरी पर अपना सिर पटकता रहता है..बस..किनारे के पत्थरों को शायद पता रहता होगा उसका दर्द...ऐसा इंतजार भी खुदा किसी की किस्मत मे न लिखे...
    (अनुराग सर की लैन्ग्वेज मे बोले तो -ख्वामखयाली का असाइनमेंट..) :-)

    उत्तर देंहटाएं
  19. हाँ कुछ वर्तनीगत कमियाँ की तरफ़ आप ध्यान दे सकते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  20. बनवास तो भगवान् जी को भी मिला था न.......
    sahi baat hai..
    achi lagi aapki rachna

    उत्तर देंहटाएं
  21. मेरा मिलना उससे तय है,
    सदियो से,
    युगों युगों से.....

    न बहूँ अगर,
    रुक जाऊ जो मैं....
    मर जाउंगी....
    तलछट में पड़ी,
    मिट्टी ही बस रह जाउंगी.....
    तो इसलिए,
    नदी को समन्दर में समाना ही होगा....
    मेरा होना,
    मेरे बहने में ही है,
    ओर यही मेरे लिए,
    सुखकर है, हितकर है
    और हाँ,
    यही नियती भी है......

    ****************

    नई सुबह होगी,
    जब नया सूरज निकलेगा.

    मुश्किलें हट जायेंगी,
    जब वक़त चाल बदलेगा.
    बनवास तो भगवान् जी को भी मिला था न........

    अत्यंत भावपूर्ण

    -Sulabh

    उत्तर देंहटाएं
  22. आज आपकी कविता ने ये सवाल मन में जगाया कि आखिर मीठी नदी जाकर खारे सागर से क्यूँ मिल जाती है...अगर कोई जवाब हो तो बताएं...

    उत्तर देंहटाएं
  23. ओम साहब ने सही और मार्के का सवाल उठाया...अपनी प्रतिभा के मुताबिक...
    मेरा अंदाजा तो यह है कि किसी भी मीठी नदी से सागर का खारापन नही देखा जाता..और उसकी जिंदगी के खारेपन को दूर करने के लिये खुद को कुर्बान कर देती है..मगर इतनी नदियों की कुर्बानी भी सागर के खारेपन को खत्म नही कर पाती है..है ना..
    ..खैर दूसरों के खयाल जुदा भी हो सकते हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  24. खारा नहीं बदलता तो न सही आप यूँ ही मिठास घोलती रहिये - शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  25. Aap janti hain? aap bahut accha likhti hai aapki kavitaon main ek apna sa 'Bimb' dikhta hai.Mujhe apki 'Ret ka ghar' wali kavita Sarvadhik priya hai. Ye nahi kahoonga ki aur koi kum pasand hain, parantu aapki Machli wali kavita main 'Dariya ke paksh' ko ujagar na karna man main ek akulahat aur bechani utpann kar gaya.
    Accha likhne ke liye Badhai evm,Aashervaad.
    -Santosh.

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.