रविवार, 21 फ़रवरी 2010

फैंक दी गयी कबाड़ में से,
ढूंढ़ते है..
कुछ बच्चे,
कुछ सुंदर चीज़े.

बीनते बीनते,
मिल जाते है उनको,
कभी कभी..
टूटी चप्पले,
बिना सर की गुड़िया,
कोई पूरी चूड़ी,
या फिर,
कोई खोटा सिक्का..

अनभिज्ञ है वो,
नीले समंदर की सुन्दरता से,
सूर्य से धरती की दूरी कितनी है,
वो नहीं जानना चाहते.
वो नहीं जानते कि क्या हो,
अगर रुक जाये मशीने सभी किसी क्षण ..
वो आकाश में जाते जहाज़ को देख,
समझते है,
युद्ध होने वाला है..

तंग मांद जैसी,
गलियो में रहने वाले बच्चो का,
प्रिय खेल है-गाडियो के पीछे दौड़ना..
या फिर गिलहरी की पूंछ को हाथ लगाना..
कवि ने पढ़ ली उनकी आँखों की  उदासी,
और पिरो दी  शब्दों के ताने बाने में..
पर उन्हें नज़र आते है बस चंद काले धब्बे..

20 टिप्‍पणियां:

  1. "बहुत ही सुन्दर रचना पूरा का पूरा एक चित्र,कोई नेगेटिव बात नहीं..."
    प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. ..पर उन्हें नज़र आते है बस चंद काले धब्बे.

    कविता का अंत काफी जोरदार है. इन बचों को देख कर दया आती है.
    सशक्त रचना के लिए बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मांद जैसी,
    गलियो में रहने वाले बच्चो का,
    प्रिय खेल है-गाडियो के पीछे दौड़ना..
    या फिर गिलहरी की पूंछ को हाथ लगाना..
    कवि ने पढ़ ली उनकी आँखों की उदासी,
    और पिरो दी शब्दों के ताने बाने में..
    पर उन्हें नज़र आते है बस चंद काले धब्बे..



    मै किसी भी कोने से दुःख को उठायु ....किसी भी तरीके से ....वो हाथ में चुभता है ओर आँख को फेर कर उसे इग्नोर करूँ......वो दूसरे रास्ते खड़ा नज़र आता है

    उत्तर देंहटाएं
  4. पर उन्हें नज़र आते है बस चंद काले धब्बे.
    Behad achhee,sachhee rachana!

    उत्तर देंहटाएं
  5. कवि ने पूरी तरह भिंगो दिया है...

    उत्तर देंहटाएं
  6. dimple bahut hi pyare bhav hai..sach kahein to kachre ke is dher mein hi unki har jarurat hai.
    jindagi bhi..sapne bhi..khwahishen bhi..

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर काले धब्बे की अपनी कहानी है,., शब्दों का चयन बढ़िया रहा ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहद खूबसूरत रचना । संवेदनशीलता रचती है ऐसी पंक्तियों की भूमिका ! अनोखा संस्पर्श मिलता है रचनाओं को !
    आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावौक रचना है बहुत ही ... बच्चों का अपना संसार होता है .. अपने सपने होते हैं जो छोटी छोटी चीज़ों से जुड़े होते हैं ... कवि का अपना केनवास होता है .. पर किसी बच्चे के लिए सच है वो काले धब्बे ही होते हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ ख्वाब भी ऐसे ही होते है इन बच्चो के जीवन की तरह .......

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सबके अपने अपने ग़म हैं मियां
    दुःख समझ लेंगे लोग,
    जी में कुछ ऐसे ही भरम हैं मियां

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत मार्मिक रचना है दिल को छू गयी

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut hi sundar rachna, kehne ka dhang bahut accha hai. dard ka ehsas bhi kara gayi bina dard ko zahir kiye

    उत्तर देंहटाएं
  15. अलिफ़ से याराना छीन लिए जाने की साजिश को ही विकास कहा जा रहा है. शिक्षा के निजीकरण ने पढाई को लूटा है और एक नया फासला खड़ा किया है आम और खास विद्यार्थी के बीच फिर वे काले धब्बे ही तो होंगे हमारे लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  16. काश कि फोटो वाले इस बच्चे के खाली थैले सपनों से भर दिये गये होते..सुंदरता बड़ी सापेक्ष चीज होती है..कूड़ा बीनने वाला कूड़े के ढेर मे भी उसी सुंदरता को तलाश करता है जो उसकी जिंदगी से कहीं गयब हो गयी होती है..भूखे इंसान के लिये दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज एक गर्म गोल रोटी होती है..स्रष्टि के सौन्दर्य, कला की खूबसूरती का एक भूखे इंसान के लिये कोई मतलब नही होता..उसी तरह जैसे उन काले धब्बों का कोई मतलब नही होता, जिन्हे हम एक संवेदनशील कविता कहते हैं जो उन लोगों पर लिखी गयी होती है जो उसे पढ़ नही सकते..
    बेहतरीन और संवेदनशील कविता...

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.