सोमवार, 7 जून 2010

किसी किसी रात के
पिछले पहर
अचानक कई बार
मेरी नींद उचट जाती है.

सोचती हूँ

तुम भी तो नहीं
मुझे ही याद कर रहे हो कहीं
मुझे ये भी डर है
कहीं तुम टहलते टहलते
छत पे चाँद देखने न चले जाओ
मुझे पता है तुम्हारे अंधेरों का
तुमने तो सिर्फ देखे है
और मैंने
मैंने तो महसूस किये है
याद है
पिछली बार
तीज का चाँद देखने छत पे गये थे
आखरी सीढ़ी के बाद भी 
इक और सीढ़ी समझ ली थी तुमने
गिरते गिरते बचे थे


क्या पता तुम मेरे लिए 
 
कोई ख़त ही लिख रहे होगे
चाहे मैं
जानती नहीं हूँ सारे के सारे अर्थ
और कई बार तो यूँ भी होता है
तुम्हे पढने की कोशिश में मैं निरक्षर हो जाती हूँ
फिर भी कोशिश करूंगी तुम्हारा लिखा
गुनगुनाने की

उन जगी रातों की
सुबहों के सिरहानों पे अक्सर
पुराने खतों की महक जैसे
ख्वाब मिलते है मुझे..



39 टिप्‍पणियां:

  1. उन जगी रातों की
    सुबहों के सिरहानों पे अक्सर
    पुराने खतों की महक जैसे
    ख्वाब मिलते है मुझे..

    बहुत खूबसूरत .. आप मुक्त हो कर दौड़ाती हैं अपने कल्पना को ..... गहरे एहसास जाग उठते हैं पढ़ते हुवे ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसुरत!!!! सुन्दर भावनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. जगजीत जी की गायी एक गजल है ......तेरे आने की जब खबर महके ,तेरे खुशबू से सारा घर महके .......बरबस याद हो आयी........बढिया !

    उत्तर देंहटाएं
  4. उन जगी रातों की
    सुबहों के सिरहानों पे अक्सर
    पुराने खतों की महक जैसे
    ख्वाब मिलते है मुझे..
    उन खतों में भी तो ख्वाब ही थे. ख्वाबों को सहेज कर रखना होगा.
    सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाकई कि‍सी को पढ़ने की कोशि‍श में नि‍रक्षर होना, अदभुत मायने रखता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. नींद की दवा खा ले

    मजाक कर रहा हूँ , कविता अच्छी है

    उत्तर देंहटाएं
  7. Uff! Ek aseem dard aur ummeed kaa yah kaisa adbhut sanyog hai...padh ke dhadkan ruk-si gayi..!

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम्हे पढने की कोशिश में मैं निरक्षर हो जाती हूँ
    फिर भी कोशिश करूंगी तुम्हारा लिखा
    गुनगुनाने की

    I loved this line....Han insano ko padhna aasan nahi hota....as usual good one !

    उत्तर देंहटाएं
  9. हजारों बार मेरी भी नींद उचटती है। पर वो चांद देखने नहीं जाती क्योंकी है नहीं अब वो मेरे साथ। शब्दों में खो सा गया। कितने सुंदर रंग से रंगा है आपने रात की उचटती हुई नींद को। भई अपने बस की बात नहीं। मालूम नहीं क्यों.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या कुछ कम किया प्यार.........

    उत्तर देंहटाएं
  11. किसी किसी रात के
    पिछले पहर
    अचानक कई बार
    मेरी नींद उचट जाती है.

    सोचती हूँ
    तुम भी तो नहीं
    मुझे ही याद कर रहे हो कहीं

    कोई इतनी शिद्दत से याद तो करे... कमबख्त सोना कौन चाहता है फिर :)
    ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. उफ्फ... फ... फ..सच दिल भर आया बेहद प्रभावशाली रचना ,कितनी कसक कितना दर्द फिर भी अपनापन लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सशक्त अभिव्यक्ति
    .
    और रचनाओं का इंतज़ार रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच में निरक्षर हो जाता है इंसान। पर फिर भी उसे ही पढ़ता है, बार बार पढ़ता है, क्योंकि वो शब्द उसके भीतर घर कर जाते हैं। वो ही शब्द जगाते हैं, वो शब्द रुलाते और हंसाते हैं, बस सोने ही नहीं देते। सच में आपके भाव दिल तक उतर गए।

    उत्तर देंहटाएं
  15. aap ki rachana ke liye kya kahun dimple ji
    har bar yoon lagta hai, jaise koi mere dil ka dard bayan kar raha ho

    bahot bahor shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  16. मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  17. आप बहुत सुंदर लिखती हैं. भाव मन से उपजे मगर ये खूबसूरत बिम्ब सिर्फ आपके खजाने में ही हैं

    उत्तर देंहटाएं
  18. तुम्हे पढने की कोशिश में मैं निरक्षर हो जाती हूँ
    फिर भी कोशिश करूंगी तुम्हारा लिखा
    .........
    डिम्पल जी कहाँ की गहराई है ??? अब बता भी डीजये ! हम तो आपके मुरीद हुये ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. तुम्हे पढने की कोशिश में मैं निरक्षर हो जाती हूँ
    फिर भी कोशिश करूंगी तुम्हारा लिखा
    गुनगुनाने की
    randomly got ur blog but got some really good poems.......awesome....

    उत्तर देंहटाएं
  20. So lovely! So soft feelings direct from heart! Liked the poem very much.

    उत्तर देंहटाएं
  21. :)

    उन जगी रातों की
    सुबहों के सिरहानों पे अक्सर
    पुराने खतों की महक जैसे
    ख्वाब मिलते है मुझे..


    pata hai, aasmaan jaisa shaant dhawal aur meetha likhti hain aap.

    shukriya kuboolein

    उत्तर देंहटाएं
  22. मुझे ये पंक्तिया बड़ी अच्छी लगी...

    मुझे पता है तुम्हारे अंधेरों का

    तुमने तो सिर्फ देखे है
    और मैंने
    मैंने तो महसूस किये है

    एक ही कविता में तुम मेचौर भी हो....ओर शिकायत करती लड़की भी...जो कविता से बाहर नजर आती है ......

    याद है
    पिछली बार
    तीज का चाँद देखने छत पे गये थे
    आखरी सीढ़ी के बाद भी
    इक और सीढ़ी समझ ली थी तुमने
    गिरते गिरते बचे थे

    उत्तर देंहटाएं
  23. मुझे पता है तुम्हारे अंधेरों का
    तुमने तो सिर्फ देखे है
    और मैंने
    मैंने तो महसूस किये है
    याद है

    और
    उन जगी रातों की
    सुबहों के सिरहानों पे अक्सर
    पुराने खतों की महक जैसे
    ख्वाब मिलते है मुझे..
    बस निशब्द हूँ कहने को क्या रह गया है बस आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  24. पढ़ने की कोशिश मे निरक्षर होते जाना उस भय को विस्तार देने का प्रतीक है जो किसी चीज को जरूरत से ज्यादा जान लेने की वजह से पनपता है..चाहे किताब हो या जिंदगी!!..अंतिम पंक्तियाँ बेहतरीन लगी..खास कर नयी सुबहों के ख्वाबों से पुराने खतो की खुशबू आना..यह ख्वाब बैरँग ख़त की तरह हर रात वापस लौट कर आते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  25. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  26. bahut hi achhi rachna..
    aane mein thodi deri ho gayi..
    naukri ki talaash mein thoda wyast hoon.....

    उत्तर देंहटाएं
  27. bhaavon ki abhivyakti bahut sundeer hia :)


    http://liberalflorence.blogspot.com/
    http://sparkledaroma.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  28. मैं चिटठा जगत की दुनिया में नया हूँ. मेरे द्वारा भी एक छोटा सा प्रयास किया गया है. मेरी रचनाओ पर भी आप की समालोचनात्मक टिप्पणिया चाहूँगा. एवं यह भी जानना चाहूँगा की किस प्रकार मैं भी अपने चिट्ठे को लोगो तक पंहुचा सकता हूँ. आपकी सभी की मदद एवं टिप्पणिओं की आशा में आपका अभिनव पाण्डेय
    यह रहा मेरा चिटठा:-
    सुनहरीयादें

    उत्तर देंहटाएं
  29. "तुम्हे पढने की कोशिश में मैं निरक्षर हो जाती हूँ
    फिर भी कोशिश करूंगी तुम्हारा लिखा
    गुनगुनाने की"

    जैसा अपूर्व ने कहा वही लाईन परफ़ेक्ट होगी इसके लिये
    "पढ़ने की कोशिश मे निरक्षर होते जाना उस भय को विस्तार देने का प्रतीक है जो किसी चीज को जरूरत से ज्यादा जान लेने की वजह से पनपता है..चाहे किताब हो या जिंदगी!!."

    कभी कभी किसी को जरूरत से ज्यादा जानने से भी डर लगता है.. ज़िन्दगी से भी.. आजकल उसी डर मे जी रहा हू.. खूबसूरत पोस्ट..

    उत्तर देंहटाएं
  30. इस भाव का मैं भी मुरीद हुआ... बहुत सुन्दर प्रेम कविता. कई लाइन अनोखे से लगे.

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.