गुरुवार, 13 मई 2010





जादूगरनी रात जिस तरह
सम्मोहित करती है
उजालो को
ठीक उसी तरह 
तुम्हारा अक्स
मेरे वजूद पर छा जाता है.
तुम्हीं कहो
कहाँ ढूँढूं तुम्हें
कि रात भूल से भी
नहीं छोड़ा करती अपनी परछाई कभी



ये इत्तफाक था या लाज़मी ?
कि
तुम वक़्त का
इक नन्हा सा टुकड़ा
जब कर रहे थे मेरे नाम
तभी बिरह के अनगिनत पल
सेंध लगा रहे थे वहीँ 



मैं इक इक निशान पे
रख देती लफ़्ज़ों को
और तय कर लेती फासले सारे
उड़ते पंछिओं के
पैरों के निशां नहीं हुआ करते.




मुझे अब तक नहीं मालूम
कि उस दिन 
तुम्हारी आँखे
हँसती थी
बोलती थी
या फिर उदास सी थी..



सुना है सड़क के
उस हिस्से पे
धूप में
बेमौसमी  बारिश 
हुआ करती है इन दिनों.
जहाँ कुछ पल
ठिठके थे तुम
जाते जाते.




तुम्हारे
वहीँ होने का भ्रम
हिलते हाथ, मुड़ती पीठ
दिखती है मुझे अब भी
आँख झपकते ही
तुम्हें न पा कर वहां
मैं अचानक रो देती हूँ
जबरन रोके भी पानी
भला कहाँ रुकते है.


तेरे जाने के बाद
ढूँढती रहती हूँ
अमर बेल की जडें
जिस्म की मिट्टी में
तुम्हारी आवाज अब भी
लिपटी हुई है..

45 टिप्‍पणियां:

  1. aah......
    kafi marmik rachna...
    aankhein bheeg aayin padhkar.....
    behtareen.........

    उत्तर देंहटाएं
  2. अद्भुत!

    बस कुछ और नहीं सुझा तो ये ही लिख दिया!

    कल्पना के घोड़े भी अजीब होते है,अजीज होते है...



    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना है, भावविभोर कर दिया आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिस्म की मिट्टी में
    तुम्हारी आवाज अब भी
    लिपटी हुई है..
    अमरबेल की जड़े गहरी हैं लगता है
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी यह खूबसूरत कविता मेरी कविता का ही भाग जैसी लग रही है ,बहुत ही गहरी संवेदना से आपने अपनी भावनाओं को साझा किया है .... हार्दिक बधाई मेरी ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये इत्तफाक था या लाज़मी ?
    कि
    तुम वक़्त का
    इक नन्हा सा टुकड़ा
    जब कर रहे थे मेरे नाम
    तभी बिरह के अनगिनत पल
    सेंध लगा रहे थे वहीँ


    SUNDAR KAVITA AUR PREM KA SANATAN DUKH

    उत्तर देंहटाएं
  7. Pyar aur gehraai... shaayad inka sabse mazboot rishta hai!
    Jab koi pyar ke baarey mein likhta hai na jaane kahaan se itni gehraai aa jaati hai!!
    Main sochti hu kalaa toh ikk taraf hai likhne ki par gehraai tak jaa kar sochna aur mehsoos karna... aapko khoob aata hai :)

    Regards,
    Dimple

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये इत्तफाक था या लाज़मी ?
    कि
    तुम वक़्त का
    इक नन्हा सा टुकड़ा
    जब कर रहे थे मेरे नाम
    तभी बिरह के अनगिनत पल
    सेंध लगा रहे थे वहीँ
    kahna kya hai....

    उत्तर देंहटाएं
  9. विक्षोह का अच्छा चित्रण ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. हिज्र के दर्द को भी कोई इस ख़ूबसूरती से बयान कर सकता है भला... निशब्द हूँ... सच में अदभुत !!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  12. हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. kai baar padha...bahut comment likhe fir mita diye...apni tipaani tak nahi jachi...aap to comment karne layak bhi nahi chodti....SHHHHHH yahi behatr hain...lekin fir bhi kuch to kahna hi tha...aap hamari fav. jo hain :-)

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस जबरदस्त कविता का टाईटिल हो सकता था ’तुम्हारे जाने के बाद’..

    एक coincidence भी है कि मैने रामदरश मिश्र जी की एक कविता अपने ब्लोग पर शेयर की है.. उसका टाईटिल है ’मेरे जाने के बाद’.. और रामदरश मिश्र जी ऎसे कहते है कि -

    "छोड़ जाऊँगा
    कुछ कविता, कुछ कहानियाँ, कुछ विचार
    जिनमें होंगे
    कुछ प्यार के फूल
    कुछ तुम्हारे उसके दर्द की कथाएं
    कुछ समय – चिंताएं
    मेरे जाने के बाद ये मेरे नहीं होंगे
    मै कहाँ जाऊँगा, किधर जाऊँगा
    लौटकर आऊँगा कि नहीं
    कुछ पता नहीं
    लौटकर आया भी तो
    न मै इन्हे पहचानूँगा, न ये मुझे
    तुम नम्र होकर इनके पास जाओगे
    इनसे बोलोगे, बतियाओगे
    तो तुम्हे लगेगा, ये सब तुम्हारे ही हैं
    तुम्ही मे धीरे धीरे उतर रहे हैं
    और तुम्हारे अनजाने ही तुम्हे
    भीतर से भर रहे हैं।

    मेरा क्या….
    भर्त्सना हो या जय जयकार
    कोई मुझतक नहीं पहुचेगी॥

    - रामदरश मिश्र"

    उत्तर देंहटाएं
  15. "तेरे जाने के बाद
    ढूँढती रहती हूँ
    अमर बेल की जडें
    जिस्म की मिट्टी में
    तुम्हारी आवाज अब भी
    लिपटी हुई है.."

    ये आवाज ही तो कम्बख्त चिपकी हुयी है.. न जाने दीवारो घर के किस किस कोने से..

    उत्तर देंहटाएं
  16. भावोँ का अच्छा संगुंफन रचना मे है । प्रेम की सहज अभिव्यक्ति के लिए बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रेम भी क्या अज़ब बनाया उस खुदा ने...रचनात्मकता सिर्फ प्रेम के अनुभव में हैं..जितना ज्यादा अनुभव उतना अनुभव का रस.../

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस दिलकश कविता मे प्रेम के रंग को सघन बनाते तमाम अछूते बिंब इतनी खूबसूरती से पिरोये गये हैं..जैसे कि आषाढ़ की पहली बारिश के बाद पानी से भरे खेत मे धान के छोटे-छोटे पौधे रोपे गये हों..और एक हरापन पूरी कविता पर बहार बन कर छा जाता है..
    रात की जादूगरनी जिस तरह उजालों को सम्मोहित कर अपनी परछाई के शॉल मे छुपा कर चुरा ले जाती है अपने साथ..वैसा ही सम्मोहन कविता की शुरुआत से असर करने लगता है...फिर आँखों की लिखावट मे छुपे तमाम कूटशब्दों को पढ़ने की नाकाम कोशिश इसी सम्मोहन को रहस्यात्मक बनाती जाती है..कि सड़क के उस हिस्से की बेमौसमी बारिश वाली धूप मे भी आँखों के बादलों के बेचैनी झलकती है..
    कविता के सबसे बेहतरीन हिस्सों मे से एक यह लगा

    और तय कर लेती फासले सारे
    उडती परवाजों के
    पैरों के निशां नहीं हुआ करते.

    परवाजों के पैरों के निशां की बात नयी नही है ..मगर यहाँ पर किसी के रास्तों की निशानदेही करते लफ़्जों के मुताल्लिक यह सफ़र एक नया अर्थ देता है..(मगर उडती परवाजें पुनरुक्ति दोष का शिकार लगता है)
    और अमरबेल की जड़ें नही होती..वैसे ही जैसे जाने वाले के कदमों के निशां वक्त की गर्द मे खो जाते हैं..मगर जिस्म के मिट्टी मे लिपटी आवाज का सोंधापन....जैसे बारिश के हो चुकने के तमाम वक्त बाद तक भीनी खुशबू मिट्टी से आती रहती है..

    कविता के लिहाज से दूसरा और आखिरी से पहला स्टैंजा बाकी के मुकाबले कुछ फ़ीका सा लगा..मगर कुल मिला कर यह पढ़े जाने के देर बाद तक जेहन मे खुशबू सी महकती रहती है..भूले सी ही मगर अपनी परछाई छोड़ जाती है..रात के बरअक्स..

    उत्तर देंहटाएं
  19. पहले गालिबन कहते थे अब अपुर्वन कहते हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  20. सिर्फ इतना कह सकता हूं कि बेहतरीन....अपूर्व जी के विश्लेषण के बाद भी.....बेहतरीन....दिल कूल कूल हो गया..अंग्रेजी शब्द इसलिए कि सारे शब्द तो आपने समेट लिए हैं. मैं कहां से लाउं शब्द।

    उत्तर देंहटाएं
  21. well done! No one can say better than what you have said in your poem.

    उत्तर देंहटाएं
  22. ये इत्तफाक था या लाज़मी ?
    कि
    तुम वक़्त का
    इक नन्हा सा टुकड़ा
    जब कर रहे थे मेरे नाम
    तभी बिरह के अनगिनत पल
    सेंध लगा रहे थे वहीँ ,...

    गुलज़ार की नज़मों की याद आ जाती है जब कभी आपकी नजमें पढ़ता हूँ ... कई बार पढ़ने पर अलग अलग अर्थ निकल कर आते हैं ... लाजवाब है ये नज़म भी इस कड़ी में ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. -----------------------------------
    mere blog par meri nayi kavita,
    हाँ मुसलमान हूँ मैं.....
    jaroor aayein...
    aapki pratikriya ka intzaar rahega...
    regards..
    http://i555.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  24. तेरे जाने के बाद
    ढूँढती रहती हूँ
    अमर बेल की जडें
    जिस्म की मिट्टी में
    तुम्हारी आवाज अब भी
    लिपटी हुई है..
    luvd these lines very much

    उत्तर देंहटाएं
  25. andar tak uttar gai aapki rachna...bahut khoob!!!

    http://liberalflorence.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  26. great, kabhi kabhi achanak koi pathar apse hat jata hai aur niche se kuch chamkte moti nikal padte hai.. kuch aisa hi hua, maine next Blong per click kiya aur apka blog nikal aaya. kuch khaas baat hai...

    Amit K Tyagi at http://yezindagihain.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  27. ये इत्तफाक था या लाज़मी ?
    कि
    तुम वक़्त का
    इक नन्हा सा टुकड़ा
    जब कर रहे थे मेरे नाम
    तभी बिरह के अनगिनत पल
    सेंध लगा रहे थे वहीँ

    मेरे लिए पूरी नज़्म यही है ......ओर सच पूछूँ तो मै इसे आगे बढ़ने भी नहीं दूंगा ......पता नहीं तुमने परवीन शाकिर क पढ़ा है या नहीं ...मै उस बंदी को इसलिए पसंद करता हूँ के छोटे छोटे लफ्ज़ के टुकडो से वो पूरी ईमारत खड़ी कर देती है ........ऐसी जो कई दिनों कई बरसो तक अपना रंग कायम रखती है ......

    उत्तर देंहटाएं
  28. चौथे,पांचवें और छठें स्टैंजा में विक्षोह के क्षणों को मार्मिक ढंग से चित्रित करने का प्रयास किया गया है लेकिन इस प्रयास ने शुरुआत की बेहतरीन पंक्तियों के वजन को कम कर दिया है. अंत मार्मिक है.
    ...जड़ें वहीँ जमती हैं जहाँ की मिट्टी नम हो.
    ...अच्छी कविता के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  29. प्रेम की कोंख में
    जो भी उगता है
    पता नहीं...इतना सुन्दर कैसे हो जाता है

    आश्चर्य सा होता है हमेशा...

    उत्तर देंहटाएं
  30. तेरे जाने के बाद
    ढूँढती रहती हूँ
    अमर बेल की जडें
    जिस्म की मिट्टी में
    तुम्हारी आवाज अब भी
    लिपटी हुई है..
    laajabaab, bahut badhiya.

    उत्तर देंहटाएं
  31. मुझे अब तक नहीं मालूम
    कि उस दिन
    तुम्हारी आँखे

    हँसती थी
    बोलती थी
    या फिर उदास सी थी..
    vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  32. लम्हा लम्हा रौशन होती गयी
    जब जब तेरे ख्यालो को सीने से लागाया
    खुश्बूये मोह्ब्बत जब जब जवाँ हुई
    वक्त को ठ्हरा हुआ पाया !

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों....बेहतरीन भाव....खूबसूरत कविता...

    तेरे जाने के बाद
    ढूँढती रहती हूँ
    अमर बेल की जडें
    जिस्म की मिट्टी में
    तुम्हारी आवाज अब भी
    लिपटी हुई है..

    उत्तर देंहटाएं
  34. लम्बा समय!..और कुछ नया नही??

    उत्तर देंहटाएं
  35. तेरे जाने के बाद
    ढूँढती रहती हूँ
    अमर बेल की जडें
    जिस्म की मिट्टी में
    तुम्हारी आवाज अब भी
    लिपटी हुई है.

    kaise kahun, tippani ke liye shabd talashne jaa raha hun..har bhaag ek kavitaa hai

    उत्तर देंहटाएं
  36. :)



    kyunki kuchh tipanniyaan bas tipanniyan nahin hotin

    उत्तर देंहटाएं
  37. मैं चिटठा जगत की दुनिया में नया हूँ. मेरे द्वारा भी एक छोटा सा प्रयास किया गया है. मेरी रचनाओ पर भी आप की समालोचनात्मक टिप्पणिया चाहूँगा. एवं यह भी जानना चाहूँगा की किस प्रकार मैं भी अपने चिट्ठे को लोगो तक पंहुचा सकता हूँ. आपकी सभी की मदद एवं टिप्पणिओं की आशा में आपका अभिनव पाण्डेय
    यह रहा मेरा चिटठा:-
    **********सुनहरीयादें**********

    उत्तर देंहटाएं
  38. You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

    उत्तर देंहटाएं
  39. गज़ब के भावो का सागर लहराया है जिसमे से बाहर आने का मन ही नही कर रहा…………अति उत्तम रचना।

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.