सोमवार, 22 मार्च 2010

बीजी

मैं दबे पांव जाके,
हमेशा डरा देती उनको.
और वो,
बस मुस्कराती.
पढ़ रही होती कोई किताब
या रेडियो पे सुन रही होती,
अचार सब्जिया बनाने के नये नये ढंग ..

खिड़की से धूप भर आती कमरे में.
और मैं नाचते थिरकते धूल के कण,
पकड़ने की कोशिश करती.
मुझे पूछती खाने के लिए और
जवाब सुने बिना घुस जाती रसोई में.
कमरे में छोड़ जाती अपनी महक.
हर जगह बसी थी उनकी महक.
पलंग के नीचे पड़े ट्रंक में.
अलमारी में पड़े कपड़ो में,
परदे के पीछे पड़ी चद्दरो में.
हर जगह ही तो बसी थी उनकी महक..

अब मैं दबे पांव नहीं आती.
अब बीजी नहीं है,
कही भी नहीं.
पर उनकी महक अब भी है..
अब भी धूप का चकोर नन्हा सा टुकड़ा,
कभी दीवार पे,
कभी फर्श पे नाचता रहता.
सूरज उठता जाता पल पल.
धूप खिसकती जाती तिल तिल..

कमरा उदास है अब,
दीवारे शांत,
पुराने पंखे की ऊँची अजीब आवाज़..
टीवी जितने बड़े रेडियो की,
पीली सी डंडी पूरी घुमा देती हूँ,
पर कोई स्टेशन नहीं पकड़ पाती हूँ.
शायद मैं ही जल्दी में सारे स्टेशन छोड़ जाती हूँ या फिर छूटे जा रहे है..

26 टिप्‍पणियां:

  1. किस लाईन को पकडू..

    "अब भी धूप का चकोर नन्हा सा टुकड़ा,
    कभी दीवार पे,
    कभी फर्श पे नाचता रहता"

    "टीवी जितने बड़े रेडियो की,
    पीली सी डंडी पूरी घुमा देती हूँ,
    पर कोई स्टेशन नहीं पकड़ पाती हूँ.
    शायद मैं ही जल्दी में सारे स्टेशन छोड़ जाती हूँ या फिर छूटे जा रहे है.."

    बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. शायद मैं ही जल्दी में सारे स्टेशन छोड़ जाती हूँ या फिर
    छूटे जा रहे है..
    छोडना कौन चाहता है शायद छूटे ही जा रहे हैं
    बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति, गहरे एहसास
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. खिड़की से धूप भर आती कमरे में.
    और मैं नाचते थिरकते धूल के कण,
    पकड़ने की कोशिश करती.

    अरे वे तो बहुत सारे होते थे....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बीजी के प्रति आपकी भावुक अभिव्यक्ति से आपके अच्छे दिल के बारे में पता चलता. बहुत अच्छा शब्द चित्र खींचा है , बीजी की मुस्कान..... वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  5. Hello Dimple,

    It is so good to read a new subject everytime when I read your compositions.
    You are a beautiful person at heart as no one finds time to remember those elderly people in family but you did paid respect to her!
    Magnificent... and I am touched...

    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद मार्मिक रचना जो कि पढ़ने वाले को भी बीती हुईं यादों में ले जाती है..........."
    प्रणव सक्सैना
    amitraghat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. शायद असल डिम्पल नजर आयी मुझे इस बीजी के पीछे ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बीजी के प्रति आपकी भावुक अभिव्यक्ति से आपके अच्छे दिल के बारे में पता चलता. बहुत अच्छा शब्द चित्र खींचा है , बीजी की मुस्कान..... वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  9. पीछे छूटती जिंदगी के तानो बनो के बीच ... बीजी के प्यार की महक ... कमाल का लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्मृतियों की सघनता ....पलकें नम करती रहीं ....अति सुंदर .

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुझे भी पीछे खींच ले गयी ........उनमे डुबती रही काफी देर तक .........बहुत बहुत शुक्रिया!

    उत्तर देंहटाएं
  12. पहली बार आया हूँ इस गली
    बहुत अच्छा लगा
    आपके ज़ज्बात पड़कर
    कुछ अपना सा लगा
    यूँही पिरोते रहिये अपने दिले राज़
    अन्दर-बाहर अपने जैसा भी लगा


    कभी अजनबी सी, कभी जानी पहचानी सी, जिंदगी रोज मिलती है क़तरा-क़तरा…
    http://qatraqatra.yatishjain.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत मार्मिक रचना,सच ऐसे ही याद करते है हम भी अपने बिछुडों को

    उत्तर देंहटाएं
  14. न जाने आपके ब्लॉग का latest pudate मेरे dash board पर क्यों नहीं आ रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  15. उदासी या ख़ुशी से अलग ज़िन्दगी की खुशबू है कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  16. ...सुन्दर भाव,प्रभावशाली रचना!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. Mai nishabd hun....manme ek kasak -see uthi...mujhe meri dadi yaad aa gayi..

    उत्तर देंहटाएं
  18. टीवी जितने बड़े रेडियो की,
    पीली सी डंडी पूरी घुमा देती हूँ,
    पर कोई स्टेशन नहीं पकड़ पाती हूँ.
    शायद मैं ही जल्दी में सारे स्टेशन छोड़ जाती हूँ
    या फिर छूटे जा रहे है..

    जिंदगी के यह स्टेशन किसी रेडियो के स्टेशन की तरह हमारे पास नही आते..वरन्‌ किसी ट्रेन के स्टेशन्स की तरह हमारी नजरों के सामने से एक-एक कर के गुजरते जाते हैं..और हम पीछे के स्टोशनों को पकड़ने की शिद्दत मे अगले स्टेशन्स भी उपेक्षित करते जाते हैं..
    सोचता हूँ कि अगर जिंदगी मे ’रिवाइंड’ करने का ऑप्शन होता तो शायद स्टेशन्स पकड़ने की बेचैनी इस कदर नही होती..मगर कुछ स्टेशनों की फ़्रीक्वेंसी जब हमारी पकड मे आती भी है..वो बन्द हो चुके होते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  19. behad touching rachna...kitne khoobsoorat tarike se aapne is rishte ko bayan kiya hai....bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  20. kya likhu, kis kis line ki tareef karu, bas isi soch mein doobi baar baar is blog par aati aur phir chali jati

    bahut khoob Dimple

    -Shruti

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.