बुधवार, 1 दिसंबर 2010


कई बार सोचती हूँ..
कि तुम्हें आज न सोचूं...
और कुछ और
सोचूं..
..मैं..

सच..
कुछ और सोचा भी..
न जाने फिर भी...
..तुम..

जाड़ों की रात की सर्द हवा सी
तुम्हारी आवाज़...
भूल जाती हूँ सुनते-सुनते
कि क्या कह रहे हो..
अगर टोक के बीच में से पूछ लो कभी तो...
नहीं बता पाऊँगी...
कहाँ थे
..तुम..

तुम्हारी हंसी की सीढियां..
उतरती चढ़ती रहती हूँ..
..मैं..

जाओ अब ..
जाते हुए कहते हो जब..
मन चाहता है कि ठहर जाओ
और बस एक क्षण
..तुम..

21 टिप्‍पणियां:

  1. जाओ अब ..
    जाते हुए कहते हो जब..
    मन चाहता है कि ठहर जाओ
    और बस एक क्षण
    ..तुम..

    सारा प्यार समेट लिया है इन पंक्तियों मे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत दिन बाद आपको पढ़ा अच्छा लगा..
    ढेर सारा प्यार उमड़ आया आपकी कविता के माद्ध्यम से....
    बहुत खूब...
    मुट्ठी भर आसमान...

    उत्तर देंहटाएं
  3. Main Tumse Baatein Karna Chahti Hun
    Main Tumhe Sunna Chahti Hun
    Main Kuch Kehna Chahti Hun
    Tum Kuch Kehte Kyun Nahin
    Tum Kch Puchte Kyun Nahin



    पता नहीं किसका है डिम्पल....पर कभी पढ़ा था ....आगे भी कुछ था ....पर शायद इतना बेहतर नहीं......मन किया इसे एडिट कर दूँ...........आज तुम्हे पढ़ा तो याद आया .सो कोपी पेस्ट कर रहा हूँ.........

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावुक, अर्थयुक्त और संप्रेषणीय प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिल को छू गयी कविता। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. खूब.. आज फिर आपकी लेखनी का कमाल देखा.

    मन चाहता है कि ठहर जाओ
    और बस एक क्षण
    ..तुम..


    बहुत ही बढ़िया..

    मनोज

    उत्तर देंहटाएं
  7. तुम्हे आज ना सोचूं ...
    सोचा तन्हाई में तुझे ना सोचूं ...
    तू और तन्हाई ...
    मुमकिन कहाँ थी ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. शायद पहली बार पढ़ रही हूँ आपको .अच्छी लगी आपकी अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सोच की नमी छु जाती कहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. What a nice work done dear!!
    I simply loved it :)
    Nice words, nice perception!

    Tcare!

    Regards,
    Dimple

    उत्तर देंहटाएं
  11. जाओ अब ..
    जाते हुए कहते हो जब..
    मन चाहता है कि ठहर जाओ
    और बस एक क्षण.... बहुत ही बढ़िया..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्छी रचनाये हैं आपकी. मन को छू गयी . इतने सुंदर लेखन के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ब्‍लॉग्‍स की दुनिया में मैं आपका खैरकदम करता हूं, जो पहले आ गए उनको भी सलाम और जो मेरी तरह देर कर गए उनका भी देर से लेकिन दुरूस्‍त स्‍वागत। मैंने बनाया है रफटफ स्‍टॉक, जहां कुछ काम का है कुछ नाम का पर सब मुफत का और सब लुत्‍फ का, यहां आपको तकनीक की तमाशा भी मिलेगा और अदब की गहराई भी। आइए, देखिए और यह छोटी सी कोशिश अच्‍छी लगे तो आते भी रहिएगा


    http://ruftufstock.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.