सोमवार, 16 नवंबर 2009

रुक गयी...
छींक यूँ आते आते मुझको.....
तूं रह गया......
याद करते करते मुझको....
किसी और ख्याल ने,
रास्ता तेरा काटा होगा.......

दैनिक राशिफल-
आज कोइ शुभ समाचार मिलेगा.....




*************************


मोती यादो के भी पिरोये है जिनमे..
टूटते नहीं अब वो प्यार के रिश्ते..
कई साल लगे थे चीन की दीवार बनने में....

20 टिप्‍पणियां:

  1. मोती यादो के भी पिरोये है जिनमे..
    टूटते नहीं अब वो प्यार के रिश्ते..
    कई साल लगे थे चीन की दीवार बनने में...

    AAPKI SAB RACHNAAYE ANTIM DO LAAINON MEIN MATLAB KO AUR BHI GAHRA KAR DETI HAIN ....

    BAHOOT HI LAJAWAAB AUR UMDA RACHNA PADHNE KA MAZAA HI KUCH AUR HAI ... AUR VO MAZA LE RHA HN IS VAQT MAIN ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. किसी और ख्याल ने,
    रास्ता तेरा काटा होगा.......
    बड़ी रिफ्रेशिंग सी कविता है...हमेशा की तरह.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोइ मजबूर हालात रहे होंगे......
    मगर..
    इक बार बताओ तो सही....
    तुम
    उस रोज़
    आये क्यूँ नहीं???
    bahut achchha hai sawal karne ka andaaj

    उत्तर देंहटाएं
  4. कई साल लगे थे चीन की दीवार बनने में

    बेहतरीन भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  5. मोती यादो के भी पिरोये है जिनमे..
    टूटते नहीं अब वो प्यार के रिश्ते..
    कई साल लगे थे चीन की दीवार बनने में....
    कुछ सवाल, सवाल नही होते जवाब होते है. अंतस को शब्द देने की कला आपमे है

    शायद तभी तो
    किसी और ख्याल ने,
    रास्ता तेरा काटा होगा.......

    उत्तर देंहटाएं
  6. Raaz aapka andaz-ae- bayan hai......ham dil haar ke ja rahe hai...:-) aur han ise chura bhi rahe hai

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक और अलग अंदाज..रोजमर्रा के प्रतीकों को ले कर मन की कशमकश को बहुत प्रभावी तरीके से जोड़ा आपने..
    खासकर यह

    किसी और ख्याल ने,
    रास्ता तेरा काटा होगा.......

    दैनिक राशिफल-
    आज कोइ शुभ समाचार मिलेगा.....


    ..शुरुआती पंक्तियों मे छींक की बजाय हिचकी लिखना चाहते होगे आप..ऐसा मुझे लगा..
    और अंतिम तीन पंक्तियाँ पूरी कविता की रहबर हैं या अलग सफ़र मे हैं..थोड़ा कन्फ़्यूजन सा होता है..पिछली कुछ पोस्ट्स की तरह...

    उत्तर देंहटाएं
  8. रुक गयी...
    छींक यूँ आते आते मुझको.....
    तूं रह गया......
    याद करते करते मुझको....
    किसी और ख्याल ने,
    रास्ता तेरा काटा होगा.......

    वाह......बहुत ही बढ़िया .......!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. राज जी,
    कई साल लगे थे चीन की दीवार बनने में....
    ये भी एक ख्याल हो सकता है कविता में ...ये किसने सोचा होगा...
    चौंका देती हैं आप ...हमेशा.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. अपने आप में यह तीन पंक्तियाँ पूरी कविता हैं ...

    मोती यादो के भी पिरोये है जिनमे..
    टूटते नहीं अब वो प्यार के रिश्ते..
    कई साल लगे थे चीन की दीवार बनने में....

    उत्तर देंहटाएं
  11. किसी और ख्याल ने तेरा रास्ता रोका होगा ...खुद को खुद ही समझाने का अंदाज बहुत भाया ....चीन की दिवार से प्यार की तुलना नया कांसेप्ट है ...!!
    हमेशा की तरह लाजवाब ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. इन क्षणिकाओं का आनन्द लिया ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रुक गयी...
    छींक यूँ आते आते मुझको.....
    तूं रह गया......
    याद करते करते मुझको....
    किसी और ख्याल ने,
    रास्ता तेरा काटा होगा.......
    राज जी बधाई हो बहुत नयापन लिए हैं ये पंक्तियाँ हमेशा की तरह.हमारा अभिवादन और बधाई भी स्वीकारें हमेशा की तरह

    उत्तर देंहटाएं
  14. Behad Khoobsoorat!
    Mere ek mitr aksar kehte hain:
    Kuchh to majbooriyan rahee hongi!
    Warna Koi yunhi bewafa nahin hota!

    उत्तर देंहटाएं
  15. किसी और ख्याल ने,
    रास्ता तेरा काटा होगा.......
    ख्यालों की खूबसूरत अभिव्यक्ति !!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. ख्याल का रास्ता काटने वाला बिम्ब मूक कर गया कई पलों के लिये। एक जलन सी भी हुई कि मैंने क्यों नहीं सोचा ऐसा...!!!

    "राज"...आपका नाम है?

    मेरा है। मेरे करीबी दोस्त, मेरी अर्धांगिनी मुझे इसी नाम से पुकारते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. तूं शर्मिंदा न होना...
    न आ पाने पे अपने....
    कोइ मजबूर हालात रहे होंगे..
    ख्यालों की खूबसूरत अभिव्यक्ति......

    उत्तर देंहटाएं
  19. tinon rachanayen chhoti se magar behad vajani. bahut kuchh kah gayin. dheron badhai.

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.