शनिवार, 17 अक्तूबर 2009

त्रिवेणी



वो ख़याल है कि हकीकत है कोई सबूत नही,
मेरी नज़मो में मगर वो बसता है ,
खुदा को देखा तो नही किसी ने भी।




अहसास तो था कि यादें बेतरतीब है,
हंसाते हंसाते रुला देती है मूझे ,
अलमारी खोली तो सब कपड़े बाहर गिर पड़े।




मैंने सुना नही तुम्हे कई दिन से,
शायद तुम कुछ बोले भी नही हो,
बाहर पटाको का शोर बहुत है.

22 टिप्‍पणियां:

  1. अहसास तो था कि यादें बेतरतीब है,
    हंसाते हंसाते रुला देती है मूझे ,
    अलमारी खोली तो सब कपड़े बाहर गिर पड़े।


    मैंने सुना नही तुम्हे कई दिन से,
    शायद तुम कुछ बोले भी नही हो,
    बहार पटाको का शोर बहुत है.


    कई बार आप कमाल की बातें कमाल के अंदाज़ में कह देतीं हैं तो कभी लगता है कि कोई बहुत मासूम सी बच्ची काग़ज़ से खेल रहीं है। दोनों ही त्रिवेणी ग़ज़ब की लगीं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वो ख़याल है की हकीकत है कोई सबूत नही,
    मेरी नज़मो में मगर वो बसता है ,
    खुदा को देखा तो नही किसी ने भी।
    -----------------------

    तुम्हारे घर के बाजू में
    नीम का जो पेंड है
    उस पे कुछ एहसास के घरोंदे हैं
    कुछ अल्फाज़
    जरूर उतर आते होंगे तेरे नज्मों में

    वे एहसास मेरे हैं...
    ---------------------


    अहसास तो था कि यादें बेतरतीब है,
    हंसाते हंसाते रुला देती है मूझे ,
    अलमारी खोली तो सब कपड़े बाहर गिर पड़े।

    --------------------------------
    मेरी आलमारी में भी
    कुछ कपडे पड़े हैं तेरे
    अब तक
    ------------------


    मैंने सुना नही तुम्हे कई दिन से,
    शायद तुम कुछ बोले भी नही हो,
    बहार पटाको का शोर बहुत है.
    -------------------------
    ये कुछ हथेलियाँ हैं
    चाहो तो रख लो

    इनमें तुम्हारे लिए स्पर्श जमा हैं

    स्पर्श आवाज में नहीं बोलते!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो ख़याल है कि हकीकत है कोई सबूत नही,
    मेरी नज़मो में मगर वो बसता है ,
    खुदा को देखा तो नही किसी ने भी।
    bahut khoob likha hai..
    deepotsav ki shubhkamanayein...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैंने सुना नही तुम्हे कई दिन से,
    शायद तुम कुछ बोले भी नही हो,
    बाहर पटाको का शोर बहुत है.
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत जबरदस्त और उम्दा त्रिवेणियाँ हैं.

    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    सादर

    -समीर लाल 'समीर'

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतने सरल शब्दों में इतनी गहरी बात ...बहुत बढ़िया ..
    शुभ दीपावली ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. darpan ne batayaa thaa ke aap ke blog pe kuchh behtreen triveniyaan hain...
    pahli aur doosri triveni padhi to hairaan rah gayaa,
    sahi kahaa thaa usne....

    aur ant mein...
    pataake ke shor se kyaa fark padtaa hai...?

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. Hello Raj,

    I told you in the last comment as well... You are a blessed soul! Hope you continue writing in this exceptional way always... Very fine composition!

    Regards,
    Dimple

    उत्तर देंहटाएं
  11. लाजवाब .... एक से बढ़ कर एक दिवाली के तोहफे की तरह खूबसूरत त्रिवेनियाँ ........... गहरे एहसास सिमटे हुवे हैं ...........

    ये दीपावली आपके जीवन में नयी नयी खुशियाँ ले कर आये .........
    बहुत बहुत मंगल कामनाएं .........

    उत्तर देंहटाएं
  12. sabne itna kuch kaha ham kya bole...behad khoobsoorat......diwali ki mangalkaamnaye

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर लिखा है आपने ! आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  14. राज की त्रिवेणीयाँ, फिर दर्पण जी की, और दर्पण जी और राज जी का संवाद ...मै तो दंग रह गया...ऐसा सबकुछ हो सकता है...

    उत्तर देंहटाएं
  15. rajji,
    in triveni ka rogi mujhe pahle to darpanji ne banaaya, ab aap bhi yahi kar rahi he lagtaa he/ aapko bataa du ki darpanji ki triveniyo se me khaasaa prabhaavit rahtaa hu, aour pataa nhi kyu mujhe anya knhi kisi blog par post ki gai triveni ab tak prabhavit nahi kar saki, kintu is baar me aapko badhaai doongaa,
    अहसास तो था कि यादें बेतरतीब है,
    हंसाते हंसाते रुला देती है मूझे ,
    अलमारी खोली तो सब कपड़े बाहर गिर पड़े।
    ye sabse behatar he/ raj ji..aap vakai raaj he, yaani chhupirustam/ bahut khoob likhati he aap/

    उत्तर देंहटाएं
  16. Raj aap itni achhi aur itni gehraayi wali triveni bhi likh leti hai
    yeh aaj pata chala

    bahut hi achha likha hai

    -Sheena

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत गहरे भाव हैं, जिन्हें आपने बहुत सलीके से व्यक्त किया है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  18. मैंने सुना नही तुम्हे कई दिन से,
    शायद तुम कुछ बोले भी नही हो

    kya kah diya hai!

    उत्तर देंहटाएं
  19. कविता के ये छोटे इंजन टिप्पणियों के बेशुमार डब्बे खींचने की क्षमता रखते हैं

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.