बुधवार, 25 अगस्त 2010

तारें,
टिमटिमाएंगें नहीं,
घुंघरुओं की तरह बजेंगे..

अपनी ही राख की
किसी दबी हुई चिंगारी से
जल उठेंगे
सपनो के अलाव..

रेगिस्तानों में
जंग लगी चरखी की
आवाज़ से
जाग जायेंगे
सोये हुए कुओं के पानी..

बारिश,
हो चुकी होगी..
धूप से भरी
दहलीज़ पर
बैठकर
पढूंगी तब
तुम्हारी दी हुई
आखरी किताब...

56 टिप्‍पणियां:

  1. बारिश,
    हो चुकी होगी..
    धूप से भरी
    दहलीज़ पर
    बैठकर
    पढूंगी तब
    तुम्हारी दी हुई
    आखरी किताब...
    Aah! Ye panktiyan bahut dard de gayeen...

    उत्तर देंहटाएं
  2. और फिर शुरू होगी
    घुंघरुओं की रुनझुन
    सपनों के सुलगने
    और रेगिस्तानी कुओं के जल मे
    एक अनोखी और अंतहीन हलचल ......,
    तब तुम्हारी किताब के
    एक एक हर्फ़ से
    मुस्कराओगे तुम
    लगातार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. तारें,
    टिमटिमाएंगें नहीं,
    घुंघरुओं की तरह बजेंगे..

    इन पंक्तियों की उदास खूबसूरती में गुम हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. दर्पण से इसे बज्ज़ किया है, पहले लगा जैसे उसी ने लिखा हो लेकिन यहाँ है झरने का सोता... बहुत सुन्दर लिखा है सारे बिम्ब बड़े खुबसूरत हैं, बस थोडा और होता तो और बेहतर होता... यही भेजा होता हिंद युग्म पर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वक्त को बायीं ओर ले जाने का धन्यवाद.....दर्द आशोब वो आखिरी किताब थी।
    सुन्दर कविता का धन्यवाद
    सत्य

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह फंतासी भरी कविता अच्‍छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके ब्लाग का नाम भी बड़ा प्यारा है
    आपके सपनों से मेरी कोई जान-पहचान नहीं है
    यदि होती तो यह जरूर कहता
    वे आपको कभी न सोने दे
    अवतार सिंह पाश ने कहा है
    सबसे खतरनाक होता है
    हमारे सपनों का मर जाना
    सपनों को तो जिन्दा रहना चाहिए
    और हां...
    कविता भी शानदार है
    जबरदस्त पंच के साथ कविता खत्म नहीं होती
    बल्कि पाठक
    आखिरी किताब के बारे में सोचने लगता है.
    आपके ब्लाग पर आकर अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  8. हम है
    तुमसे मुखातिब कुछ इसतरह

    वक्त मे
    घुंघुरु की तरह

    रात मे
    सुफेद चाँदनी के साथ
    जलता चाँद मध्म

    प्यास मे
    एक मृग मिरीचिका
    कस्तुरी से लिपटा तू

    किताब मे
    रौशनाई सी
    गुलाबी इश्क को
    पढता तू !

    उत्तर देंहटाएं
  9. आखिरी किताब का नशा...


    तारें,
    टिमटिमाएंगें नहीं,
    घुंघरुओं की तरह बजेंगे..

    ..वाह! क्या बात है!
    .बड़ी प्यारी लगी यह कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं मुस्कुरा रहा हूँ...यूं ही, बस यूं ही!

    मैं तो कभी पता भूला नहीं था मैम।

    sweet dreams :-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. दर्पण के साथ इत्तेफाकी....कभी कभी वाकई तुम चकित करती हो...


    बारिश,
    हो चुकी होगी..
    धूप से भरी
    दहलीज़ पर
    बैठकर
    पढूंगी तब
    तुम्हारी दी हुई
    आखरी किताब...

    i love this one.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत दिनों बाद आज आपको फिर पढ़ा तो लगा मैंने बहुत miss कुछ कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  13. Aj pahali baar apke blog par aana hua hai.
    achhi lagin apki rachnayen.........
    बारिश,
    हो चुकी होगी..
    धूप से भरी
    दहलीज़ पर
    बैठकर
    पढूंगी तब
    तुम्हारी दी हुई
    आखरी किताब...
    bahut prabhavit kiya in panktiyon ne.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपनी ही राख की
    किसी दबी हुई चिंगारी से
    जल उठेंगे
    सपनो के अलाव..

    आपकी पंक्तियों में घूम गया..कुछ गलियां मिल गईं। जानी अनजानी...। आपने कितना सच कहा है। कभी ये दबी हुई राख ही अंदर अंदर जला देती है....दबी चिंगारी से रोशनी का सबब बनेगी...पर रोशनी होगी भी तो अपने जले हुए सपनों से....खास और खूबसूरत धुले हुए दिन पर तुम्हारी आखरी किताब पढ़ूंगी....या आखरी यादें याद करुंगी या याद ही आखरी बार करुंगी....बारिश से धुला दिन होगा या आंसुओं से भींगी आंखों को दिन धुला लगेगा....दहलीज पर बैठकर ..उसके बाद दहलीज पार कर कौन सी दिशा में चल दूंगी....कौन जाने..या दहलीज में ही सिमट जाउंगी....

    आपकी इन चंद पंक्तियों के आरपार जाने की कोशिश करना भी कई आयाम खोल रहा है...मालूम नहीं कितने पलों को जीना फिर से पड़ जाता है कभी-कभी.....सोच का दायरा सच में अनेक सोपान अनेक मंजिले तय कर लेता है कई बार।

    बेहद सुंदर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  15. तीन बातें -

    १.- खलील जिब्रान पर आपकी प्रतिक्रिया के लिए मैं हृदय से आपका आभारी हूँ ...शुक्रिया
    २. आपकी ब्लॉग की हर पोस्ट के साथ उससे मिलती तस्वीरों की मैं दाद देता हूँ ....इस मामले में आप मेरी ही तरह लगती हैं |
    ३. लफ्जों पर अच्छी पकड़ है आपकी, आपकी रचना एक उत्कृष्ट साहित्यिक कृति चाहे न हो, पर उसमे कुछ बात है ...........गुलज़ार साहब की तरह आपका एक अलग अंदाज़ दिखता है.......शुभकामनाये |

    आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी......आपको फॉलो कर रहा हूँ |

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-

    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/

    एक गुज़ारिश है ...अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आये तो कृपया उसे फॉलो करके हौसलाफजाई करें .....शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  16. मतलब की किताब को पढ़कर उसका चार्म ख़त्म करना नहीं चाहती है नायिका.. जानती है कि किताब आखिरी है.. अब ताउम्र बंद किताब के साथ जिया जा सकता है.. पर पढ़ लेने के बाद बची जिंदगी कटेगी कैसे.. ? बहुत अच्छा लिखा डिम्पल...!

    उत्तर देंहटाएं
  17. एक और बात जो कहनी रह गयी थी.. वो रेगिस्तान की जंग लगी चरखी वाला बिम्ब मुझे बेहद पसंद आया..

    उत्तर देंहटाएं
  18. बारिश,
    हो चुकी होगी..
    धूप से भरी
    दहलीज़ पर
    बैठकर
    पढूंगी तब
    तुम्हारी दी हुई
    आखरी किताब..

    जब तारे बाज उठेंगे घुँगरू की तरह तो ये शोर चैन से बैठने नही देगा .... जब सपनों के अलआवजालेंगे तो कुछ भी बाकी नही रहेगा ..... हाँ कुछ सकूँ ज़रूर मिलेगा तुझे पढ़ने के बाद ....
    बहुत डोर तक ले जाती आई आपकी नज़्म ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. रेगिस्तानों में
    जंग लगी चरखी की
    आवाज़ से
    जाग जायेंगे

    वाह ! ये चरखी सूत काटने वाली है या कुँए की?

    कविता के विषय में अदिक जानकारी न होते हुए भी भाई .

    उत्तर देंहटाएं
  20. बेहतरीन अभिव्यक्ति...

    बधाई....


    )

    उत्तर देंहटाएं
  21. बारिश,
    हो चुकी होगी..
    धूप से भरी
    दहलीज़ पर
    बैठकर
    पढूंगी तब
    तुम्हारी दी हुई
    आखरी किताब...
    ......बहुत ख़ूबसूरत...ख़ासतौर पर आख़िरी की पंक्तियाँ....मेरा ब्लॉग पर आने और हौसलाअफज़ाई के लिए शुक़्रिया..

    उत्तर देंहटाएं
  22. sabse pahle to JANMASHTMI KI SHUBHKAMNAYEN !! Aapki kavita saral or satikta liye hai uske liye badhai kyoki mujh jaise log kam se kam samjh to sakte hai .....bahut sundar !!

    JAI SHRI RADHE KRISHNA

    उत्तर देंहटाएं
  23. कमेन्ट बक्से में पूरी कविता ही पेस्ट कर देने का मन है. बहुत ही सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  24. ...तारें,
    टिमटिमाएंगें नहीं,
    घुंघरुओं की तरह बजेंगे..

    अपनी ही राख की
    किसी दबी हुई चिंगारी से
    जल उठेंगे
    सपनो के अलाव..
    ....वाह, वाह!...बहुत खूब!....

    उत्तर देंहटाएं
  25. ghunghroo ki runjhun badi mast hai

    http://liberalflorence.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  26. तारें,
    टिमटिमाएंगें नहीं,
    घुंघरुओं की तरह बजेंगे..
    बेहद सुंदर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  27. Der se aane ke liya bada waala SORRY....jaise pahle bhi kah chuke hai....EXCELLENT Use of unusual metaphor

    उत्तर देंहटाएं
  28. बारिश,
    हो चुकी होगी..
    धूप से भरी
    दहलीज़ पर
    बैठकर
    पढूंगी तब
    तुम्हारी दी हुई
    आखरी किताब...

    इन खूबसूरत पंक्तियों से गुज़रते हुए
    मन की भावनाएं मुखर हो उठती हैं
    कुओं के पानी से
    सपनो के अलाव की तपिश का अंदाज़ा होने लगता है
    और...
    ज़ाहिर सी बात है....
    तारे....
    घुंघरुओं का साथ पा लेने को
    बेचैन हो उठते हैं ....... !!

    बहुत ही अच्छा काव्य
    सच ! बहुत ही अच्छा .

    उत्तर देंहटाएं
  29. पढूंगी तब
    तुम्हारी दी हुई
    आखरी किताब...
    ......बहुत ख़ूबसूरत...ख़ासतौर पर आख़िरी की पंक्तियाँ....मेरा ब्लॉग पर आने और हौसलाअफज़ाई के लिए शुक़्रिया..

    उत्तर देंहटाएं
  30. आपको और आपके परिवार को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  31. Hi Dimple,

    nice poem yaar!!

    Sameena@

    www.lovelypriyanka.blogspot.com
    www.myeasytocookrecipes.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  32. बारिश,
    हो चुकी होगी..
    धूप से भरी
    दहलीज़ पर
    बैठकर
    पढूंगी तब
    तुम्हारी दी हुई
    आखरी किताब...

    बहुत सुंदर, वाह वाह.....

    उत्तर देंहटाएं
  33. Hello Dimple,

    Bahut achha likha hai...
    Kya baat, Kya baat, Kya baat!! :)
    Climax itni achhi tarah likha hai aapne... Fantastic!

    Regards,
    Dimple

    उत्तर देंहटाएं
  34. आपको एवं आपके परिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !
    बहुत बढ़िया ! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  35. अपनी ही राख की
    किसी दबी हुई चिंगारी से
    जल उठेंगे
    सपनो के अलाव.



    सुंदर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  36. शिक्षक दिवस की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  37. क्या सिर्फ ये शब्द काफी होगा ???
    बेहतरीन!!!

    उत्तर देंहटाएं
  38. mere blog per padhaarne ka dhanyawaad ... sachmuch .. kyuki aapke blog per padhaarne ka avsar mila aur itni khoobsoorat kavitayein padhne ka bhi ...
    ek alag andaaz hai aapka, dilchasp aur khoobsoorat

    god bless
    RC

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत देर इस टिप्पणी बक्से में इधर उधर छितराने के बाद यही कहकर जा रहा हूँ कि मुझे ये कविता बहुत अच्छी लगी.. :-।

    उत्तर देंहटाएं
  40. एक शब्द मेरा भी रख लो, भले ये आखिरी नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  41. آپکو ید کی بہت بہت مبارکباد
    نظم کی تعریف خود نظم کر رہی ہے


    حفیظ احمد انصاری

    उत्तर देंहटाएं
  42. आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें ! भगवान श्री गणेश आपको एवं आपके परिवार को सुख-स्मृद्धि प्रदान करें !
    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  43. आपको भी गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं और ईद मुबारक।

    बहुत ही सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  44. Thanks for visiting my blog. You have used nice metaphors in you poem...enjoyed the read.

    उत्तर देंहटाएं
  45. कविता बहुत दिन पहले पढ़ी थी...आज फिर तुम्हें देखा तो याद आई तुम्हारी, सोचा देख लूं कि तुम्हें बताया भी था कि नहीं.
    ये वाली कविता सहेज के रखने वाली टाइप है. जो सामने दीखता है उसके परे, बहुत कुछ परतों में छिपाती एक उलझी हसीं सी गुत्थी है.
    थोडा ज्यादा लिखा करो.

    उत्तर देंहटाएं
  46. aah.. jane kaisa waqt hoga wo jab ye sab kuch ghatit ho chuka hoga aur nayika wo kitab padh rahi hogi... kai frem men bant di hai ye kavita aapne...samjh nahi aataa ki kis frame me kaid hua jaaye...kaun si image ke sath ruka jaye...hats off....... :)

    उत्तर देंहटाएं
  47. सुंदर कविता बढ़िया अभिव्यक्ति मनभावन अनुभूति...
    बधाई!! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  48. आखिरी किताब....
    वाह वाह वाह..
    अद्भुत...

    उत्तर देंहटाएं

...क्यूंकि कुछ टिप्पणियाँ बस 'टिप्पणियाँ' नहीं होती.